Shree Shankheshwar Sukh Dham Tirth

Shree Shankheshwar Sukh Dham Tirth

 

श्री शंखेश्वर सुख धाम तीर्थ , शिवगंज (राजस्थान)


मुलनायक भगवान

श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ भगवान


श्री शंखेश्वर सुख धाम तीर्थ का इतिहास

स्वस्ति मरुधर देशे राजस्थान प्रांत के सिरोही जिले के समीप श्वेताम्बर श्री शंखेश्वर सुखधाम तीर्थ का निर्माण पूज्य दीक्षा दानेश्वरी आचार्य भगवंत श्री गुणरत्न सूरीश्वरजी म. सा. की प्रेरणा एवं पूज्य षड्दर्शन निष्णात आचार्य भगवंत श्री रश्मिरत्न सूरीश्वरजी म. सा. के मार्गदर्शन में संघवी सुखीबेन बाबुलालजी अचलाजी (तखतगढ वाला) रिलीजियस ट्रस्ट, चैन्नई, मुम्बई, शिवगंज ने किया ।

वि.सं. 2066 फाल्गुन वद 13 गुरुवार दिनांक 11.02.2010 के दिन मूलनायक श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ आदि की अंजनशलाका -प्रतिष्ठा एवं मंत्र शिरोमणी सूरिमंत्र साधना पीठ-ध्यान मंदिर की प्रतिष्ठा तपागच्छाचार्य श्री प्रेम – भुवनभानु – जयघोष – जितेन्द्र सूरीजी के पट्टधर दीक्षा दानेश्वरी आ.भ. श्री गुणरत्न सूरीजी म. सा., आ. श्री रविरत्नसूरीजी म.सा., आ.श्री रश्मिरत्न सूरीजी म.सा. की शुभ निश्रा एवं पं. श्री ललित प्रभ वि., पं. श्री वैराग्यरत्न वि., आदि 110 साधु-साध्वी भगवंतो की उपस्थिति में शिवगंज निवासी प्रागवाट ज्ञातिय संघवी बाबुलाल अचलाजी रुगनाथजी, ध.प. सुखीबेन, पुत्र – पोपटलाल, मदनलाल, रमेशकुमार, विक्रमकुमार, धीरजकुमार, पु.व.- सरस्वती, मंजुला. सुशीला, दक्षा, नीता, पुत्री- स्व. अंजना, रसीला, पोत्र- कमलेश, निलेश, कल्पेश, अल्केश, सुनिष, मितुल , स्व. सिध्दार्थ, मोक्षित, विरल, पोत्र-वधु- हर्षा, रीटा, पिंकी, नीतु, हिना, नेहा, पोत्री- मनीषा, स्व. कु.अंकिता, नेहल, सैफाली, दीक्षिता, ईक्षिता, प्रपोत्र- जैनम, अक्षत, वत्शल, ध्रुव, हृदय, दियाण, नयन, चिकु, प्रपोत्री- झील, ख़ुशी, निवृति, भुवनसखा परमार परिवार ने खूब हर्षौल्लास व शासन प्रभावना पूर्वक करवाई |

* तीर्थ भूमि पूजन सं. 2064 फाल्गुन वद 3 रविवार दिनांक 24.02.2008,

* तीर्थ शिलान्यास फाल्गुन वद 13 बुधवार दिनांक 05.03.2008,

* जिनालय भूमि पूजन सं. 2065 वैशाख वद 9 रविवार दिनांक 19.04.2009,

* जिनालय शिलान्यास वैशाख वद 10 सोमवार दिनांक 20.04.2009,

* भट्ट मुहृर्त आषाढ सूद 10 दिनांक 25.06.2009

श्री शंखेश्वर सुख धाम तीर्थ का निर्माण परम पूज्य दीक्षा दानेश्वरी आचार्य भगवंत श्री गुणरत्न सूरीजी म. सा. की प्रेरणा से सन् 2008 से 2010 तक मात्र 2 वर्ष में किया गया |


तीर्थ परिसर के अवलोकन केंद्र

संघवी सुखीबेन बाबुलालजी अचलाजी रिलीजियस ट्रस्ट (तखतगढ वाला) द्वारा निर्मित इस तीर्थ में कही केंद्र अत्यंत आकर्षक हैं, जिनका अवलोकन अवश्य करे | इस तीर्थ में मुलनायक श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ अत्यंत दर्शनीय है साथ ही सुरिमंत्र मंदिर एवं श्री शत्रुंजय तीर्थ की सुन्दर पहाड़ रचना रूप प्रतिकृति भी है | अदभूत तीन गुफाओ में शत्रुंजय तीर्थ के इतिहाश की सुन्दर रचनाए है |

१. मंदिर जी:

सफ़ेद संगमरमर से निर्मित मुलनायक श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ भगवान का जिनालय अति सुन्दर है |

२. अतिथि भवन :

तीर्थ परिसर में आने वाले यात्रियों के लिए आधुनिक सुविधाओ से परिपूर्ण अतिथि भवन का निर्माण किया गया है जिसमे यात्रीयो के ठहरने के लिए कमरे उपस्थित है ।

३. आराधना भवन :

तीर्थ परिसर में आने वाले तमाम साधु-साध्वी भगवंतो के लिए सु व्यवस्थित अलग-अलग आराधना भवन का निर्माण किया गया है ।

४. श्री शत्रुंजय गीरीराज :

तीर्थ परिसर में श्री शत्रुंजय गिरिराज कि रचना कि गई है जिसमे तीन गुफाओ बनाई गई है जिसमे शत्रुंजय तीर्थ के इतिहास की रचना है ।

५. उद्यान :

तीर्थ परिसर कि सुन्दरता एवं आर्कषक बनाये रखने के लिए तीर्थ में बगीचे का निर्माण किया गया है साथ ही बच्चो के खेलने के लिए बाल-उद्यान भी बनाया गया है ।

६. जैन भोजनशाला :

तीर्थ में आने वाले यात्रियों एवं महमानों के लिए भोजनशाला का निर्माण किया गया है जिसमे बड़ी मात्र में सेकड़ो लोग एक साथ भोजन ग्रहण कर सकते है ।


पेढ़ी 

National Highway 14, Post : Posalia, Taluka : Sheoganj, District : Sirohi 307028 , Rajasthan

Contact No. : 02976-267162, 267163

Email : manager@sukhdhamtirth.com